Tuesday, February 16, 2016

JNU की पावन भूमि पर एक और क्रांतिकारी प्रस्तुति

🚩JNU की पावन भूमि पर एक और  क्रांतिकारी प्रस्तुति।
💥छद्मी वाम दल AISA, SFI, AISF,  DSU के नारे...!!!
🔥JNU (जवाहलाल नेहरू यूनिवर्सिटी) में नारे लगे हैं "गो इंडिया गो बैक"।
🔥कश्मीर की आज़ादी तक जंग चलेगी।
भारत की बर्बादी तक जंग चलेगी"।
तुम कितने अफज़ल मारोगे, घर-घर से अफज़ल निकलेगा

1. भारत तेरे टुकड़े होंगे, इंशा अल्लाह इंशा अल्लाह
2. अफज़ल हम शर्मिंदा हैं , तेरे क़ातिल ज़िंदा हैं।
3. अफज़ल तेरे खून से इंकलाब आएगा।
🔥जिस देश में रह रहे है उसी भारत माँ विरुद्ध नारे लगाने वालों के खिलाफ बिकाऊ मीडिया कुछ नही दिखाएँगा। कोई ब्रेकिंग न्यूज़ नहीं बनेगा..
🔥ब्रेकिंग न्यूज़ तब बनेगा जब हम (हिन्दू) में से कोई इनको तमाचा मार देगा...तब जोर-शोर से ये खबर ब्रेकिंग न्यूज में आएँगी और टाइटल होगा भगवा आतंकी।
और सबसे बड़ी शर्म की बात तो ये है क़ि राहुल गांधी और अरविंद केजरीवाल जिस भारत माँ के आँचल में पनप रहे है, उसी माँ पर प्रहार करने की इच्छा वालों को प्रोत्साहन दे रहे है।
Shame on Congress and AAP
🚩 एक कवि ने खूब कहा है....!!!
💥#गज़नी का है तुम में #खून भरा जो तुम #अफज़ल का गुण गाते हों,
जिस #देश में तुमने जन्म लिया उसको #दुश्मन बतलाते हो!
भाषा की कैसी आज़ादी जो तुम भारत माँ का अपमान करो,
अभिव्यक्ति का ये कैसा रूप जो तुम देश की इज़्ज़त नीलाम करो!
अफज़ल को अगर शहीद कहते हो तो हनुमनथप्पा क्या कहलायेगा,
कोई इनके रहनुमाओं का मज़हब मुझको बतलायेगा!
अपनी माँ से जंग करके ये कैसी सत्ता पाओगे,
जिस देश के तुम गुण गाते हो, वहाँ बस काफिर कहलाओगे!
हम तो अफज़ल मारेंगे तुम अफज़ल फिर से पैदा कर लेना,
तुम जैसे नपुंसकों पर भारी पड़ेगी भारत सेना!
तुम ललकारो और हम न आये ऐसे बुरे हालात नहीं,
भारत को बर्बाद करो इतनी भी तुम्हारी औकात नहीं!
कलम पकड़ने वाले हाथों को बंदूक उठाना ना पड़ जाए,
अफज़ल के लिए लड़ने वाले कहीं हमारे हाथो न मर जाये!
भगत सिंह और आज़ाद की इस देश में कमी नहीं,
बस इक इंक़लाब होना चाहिए,
इस देश को बर्बाद करने वाली हर आवाज दबनी चाहिए!
ये देश तुम्हारा है ये देश हमारा है, हम सब इसका सम्मान करें,
जिस मिट्टी पे हैं जन्म लिया उसपर हम अभिमान करें....!!!
💥42 साल की उम्र में #JNU का #छात्र कहलाने वाला भारत विरोधी नारा लगाता है और 25 साल की उम्र के देशभक्त संघी सरकार को टैक्स दे कर इन हरामखोर गद्दारों का पेट पालते हैं।
💥 JNU में जब से नारे लगे है तबसे कैंपस और आसपास की कॉलोनी के लोग अब यह सोच रहे हैं कि यहां कैसे विद्यार्थी पढ़ने के लिए आते हैं, जो यहां पढ़ाई के बहाने देश विरोधी गतिविधियों में संलिप्त हैं।
स्थिति यह होने लगी है कि मुनिरका में जो छात्र किराए पर रहते हैं, उनसे मकान मालिक अब मकान खाली करने को कह रहे हैं। घर वाले भी हो रहे हैं परेशान…
💥छात्रों के घरों से उन्हें फोन आ रहे हैं कि यूनिवर्सिटी में क्या चल रहा है। सब ठीक है न! कैंपस के नजदीक रहने वाले विजय ने बताया कि हम तो अब मुनिरका में छात्रों से अपने घर खाली करा रहे हैं। पता नहीं कब कौन आतंकवादी निकल आए। JNU में 'स्कूल ऑफ लैंग्वेज' के छात्र सुधीर ने बताया कि उसे मकान मालिक ने घर खाली करने के लिए सप्ताह भर का समय दिया है। कुछ छात्रों की गलती का खामियाजा पूरी यूनिवर्सिटी के छात्रों को भुगतना पड़ रहा है।
💥JNU कैंपस में शनिवार सुबह से ही भारी पुलिस फोर्स तैनात थी। मीडिया की ओबी वैन को कैंपस के अंदर जाने की अनुमति नहीं दी गई। मुनिरका और वसंत विहार के लोग कैंपस के बाहर प्रदर्शन करने पहुंचे और देश के गद्दारों को यूनिवर्सिटी से बाहर निकालने की माँग की।
इनेलो और इनसो के कार्यकर्ता भी दोपहर में प्रदर्शन करने पहुंचे। JNU के सेक्शन ऑफिसर सलिल रंजन ने कहा कि ये पहला मौका नहीं है जब देश की इस नामचीन यूनिवर्सिटी में इस तरह की देश विरोधी हरकत हुई है। अफजल गुरु की फांसी के वक्त भी यहां प्रदर्शन हुए थे। लोगों की धार्मिक अास्थाओं से खिलवाड़ के लिए कुछ सालों से यहां महिषासुर शहादत दिवस मनाया जा रहा है। चार साल पहले गौमाँस पार्टी आयोजन पर विवाद उठा था। कई बार देश के गौरव तिरंगे और अशोक स्तंभ का अपमान भी यहां किया गया है।
💥ये लोग खुले आम देश द्रोह दिखा रहे है। भारत की बर्बादी के सपने देख रहे है। सब नज़रो के सामने हो रहा है, किसी से कुछ भी छुपा नहीं।
इतना होने के बावजूद भी भारत सरकार
क्यों कोई ठोस करवाई नहीं कर रही ???
💥क्यों कोई कड़े कदम नहीं उठाती इन देश द्रोहियो के खिलाफ..???
आखिर क्या मज़बूरी है सरकार की..
???
💥अगर यही चीज किसी और देश में हुई होती तो ऐसे देश द्रोही को अबतक कड़ी से कड़ी सजा हो गई होती।
वहाँ पाकिस्तान जैसे देश में कोई क्रिकेट प्रेमी बच्चा तिरंगा लहराता है तो उसे 10 साल की सजा हो जाती है। फ़्रांस हमले के बाद वहाँ तुरंत 160 मस्ज़िदों तोड़ दिया ।
फिर हम क्यों कुछ नहीं कर सकते..???
💥सरकार की ऐसी नीतियों से ही जनता का मनोबल टूटता है।अगर पब्लिक सड़को पर आकर इसका विरोध करती है तो पब्लिक गुनहगार बन जाती है,अब करे भी तो क्या करे..???
💥भारत माँ, जिसने अपने आँचल में सभी धर्मों के बच्चों को आश्रय दिया और बदले में उन्हीं ने भारत माँ पर ही प्रहार किया।
लेकिन भारत माँ के वीर सपूतों ने समय-समय पर अपना बलिदान देकर अपनी माँ की रक्षा की है। उन्हीं वीर सपूतों की याद दिलाते कवि कहता है कि...
💥ना  मुल्लो  का , ना  काजी  का,
ये  देश  है  वीर  शिवाजी  का ।
ना  अली  का ,ना  वली  का,
ये  देश  है  बजरंग  बली  का ।
ना  फकीरों का ,ना  पीरो  का,
ये  देश  है  पृथ्वीराज  जैसे  वीरो  का ।
ना  बाईबल  का ,ना  कुरान  का,
ये  देश  है  गीता,  पुराण  का ।
ना  अल्लाह  का ,ना  काबा  का,
ये  देश  है  भोले  बाबा  का ।
💥हिन्दू है हम हिन्दू की तरह रहने दो....!
अगर हिन्दू दादागिरी पे आ गए ना....!
तो वही पुराना अदांज, सर पे ताज और
"हिन्दू" का राज होगा......!
💥पंजे को कमल बना देते ।
काँटों को फूल बना देते ।
एकता नही है हिन्दुओं मे
नहीं तो अयोध्या मे तो क्या
पाकिस्तान में भी राम मन्दिर बना देते ।
💥JNU में नारा लगा "कितने अफ़ज़ल मारोगे हर घर से अफ़ज़ल निकलेगा।
💥 उसका जवाब देते हुए एक राष्ट्रवादी ने बहुत खूब लिखा है...
💥घर घर में घुस कर मारेंगे, जिस घर से अफ़जल निकलेगा...
वो कोख नहीं बच पाएगी जिस कोख में अफ़ज़ल पनपेगा..
जो संसद का हत्यारा है , चुनकर हमने मारा है।
जय हिन्द के नारों से, वाम गिरोह फिर हारा है।।
तुम जितने अफज़ल पालोगे, हम उतने अफज़ल मारेगे ।
तुम जितने याकूब पैदा करोगे, हम उतने याकूब लटकाएंगे ।
ये राष्ट्रप्रेम का दम्भ चला है खून फैलेगा अफ़ज़ल का।
साफ़ करूँगा माँ का आँचल, क़सम लिया गंगाजल का।।
गंदा हाथ ना छू पाएगा, माँ के पावन आँचल को।
बाधा में ही क़ब्र बनेगी,आस्तीन के साँपो की ।।
फ़न कुचलेंगे वही पे उनका, बिल से जब भी निकलेगा ।
उस घर को आग लगा देंगे जिस घर से अफ़ज़ल निकलेगा ।
🚩Official Jago hindustani Visit
👇👇👇👇👇
💥Wordpress - https://goo.gl/NAZMBS
💥Blogspot -  http://goo.gl/1L9tH1
🚩🚩जागो हिन्दुस्तानी🚩🚩
Post a Comment