Friday, April 8, 2016

From Rs 5000 Job To 500 million Owner Deepak Chaurasia

🚩चौंका देने वाला सच....
🔥#5000 की नौकरी करने वाला #दीपक_चौरसिया बना #500करोड़ से अधिक का मालिक...!!!
💥#दीपक #चौरसिया #छत्तीसग़ढ के एक साधारण घर का रहने वाला जिसके पिता एक स्कूल में #प्रिंसिपल थे और खुद ने एक छोटी #पत्रकारिता शुरू की ।
💥लेकिन बाद में अचानक कैसे बन गया अरबोपती...?
💥#दीपक चौरसिया ने पहले "#आज तक" से पत्रकारिता शुरू की। बाद में "#DD #न्यूज़" में गया । फिर से उसने  "आज तक" में कार्यपद संभाला और फिर उसके बाद "#Star TV"  (जो अभी #ABP न्यूज़ है ) उसके कार्यरत हुआ। बाद में सीधा "#इंडिया न्यूज़" चैनल का #Chief_Editor बन गया ।
💥अब सवाल ये उठता है क़ि साधारण घर परिवार से जुड़ा हुआ और स्वयं 5000/- की नौकरी करने वाला चौरसिया कैसे बना #अरबो का मालिक...???
🔥आखिर इतनी मोटी रकम आयी कहाँ से...???
💥क्या अभी भी हमें स्पष्ट करने की जरुरत है क़ि कैसे 5000 की नौकरी करने वाला दीपक चौरसिया बना 500 करोड़ का मालिक...!!!
💥जी हाँ...!!! आज पत्रकारिता महज ब्लैकमैलिंग का धंधा बनकर रह गई है।
💥अब दूसरा बड़ा सवाल है क़ि आखिर चैनल का नाम #इण्डिया न्यूज़ ( #India_News ) ही क्यों रखा...???
💥चैनल का नाम इण्डिया न्यूज़ इसलिए रखा गया क्योंकि  चैनल भारत के आलावा कई अन्य देशों में भी जाती है तो अन्य देश समझे क़ि ये इण्डिया की न्यूज़ चैनल है जो सही ख़बरें दिखाती है।
💥जैसे अभी #भारत में #अमेरिका की कोई #न्यूज़ #चैनल "अमेरिका न्यूज़" नाम से आती है तो हम समझेंगे क़ि यह अमेरिका की ऑफिशियल चैनल है और सही खबरें दिखा रही है।
🔥इसी तरह एक सोची समझी #साजिश के  तहत और #भारतीय #संस्कृति को जड़मूल से नष्ट करने के लिए चैंनल का नाम #इण्डिया #न्यूज़ रखा गया है।
💥अब प्रश्न है क़ि दीपक चौरसिया #संत #आसारामजी बापू के #विरुद्ध ही क्यों ज्यादा खबरें दिखाता है...???
💥और सभी डिबेट में #महेंद्र_चावल को क्यों बुलाता है...???
💥उसके लिए #भोलानन्द जो 2010 में आश्रम छोड़कर चला गया था और #षड़यंत्रकारियों का हथकण्डा बना था उसने खुद "#दिशा चैनल" पर #Live में बताया ।
🔥भोलानंद की जुबानी....
💥#इंडिया टीवी वाला #वसीम अख्तर मेरे पास आया । उसने पहले से ही एक मैटर तैयार कर रखा था कि मुझे #संत_आसारामजी के खिलाफ क्या-क्या बोलना है । उसके बाद #महेन्द्र #चावला, मुंबई की वीणा, #राजू_चांडक और भी कई लोग थे जिनके फोन आते थे मेरे पास।
💥 मुंबई में ‘इंडिया न्यूज का मुख्य #मनीष अवस्थी बैठता है, वह रोज गाड़ी लेकर मेरे को लेने आता था । #Deepk_Chaurasia खुद कभी सामने नही आता था।
जब वे लोग मुझे बुलवाते तो पहले #रुपयों की थप्पियाँ दिखाते । #गाड़ी में #नोटों के #सूटकेस के साथ इनके 2-3 गुंडे भी बैठे होते थे । फिर इन्होंने मुझे मीरा रोड (मुंबई) में 70-80 लाख का फ्लैट देने का भी प्रलोभन दिया। जब भी मैं कुछ मना करूँ तो मेरे को प्रलोभन देते थे और साथ में डराने-धमकाने के लिए #गुंडे बैठाकर रखते थे ।
जहाँ से लाइव करते हैं वहाँ इन्होंने मुझे अपने पास दो दिन रखा ।
💥इन्होंने बहुत सारे मैटर तैयार कर रखे थे संत आसारामजी बापू के विरुद्ध।
जैसे  ‘संत आसारामजी बापू ने 15-16 लडकियों के साथ बलात्कार किया... आदि आदि ।
💥इस प्रकार के मैटर बनाकर मुझे देते थे ताकि बापू जी को अधिक-से-अधिक बदनाम कर न्याय पालिका पर दबाव डाला जा सकें।
💥मैंने कहा : ‘‘यह नहीं बोलूँगा तो फिर उन्होंने मुझ पर दबाव डालना शुरू किया । जो डिबेट (न्यूज चैनल पर बहस) होती थी उसमें भी ऐसा ही होता था कि सामनेवाले का चेहरा नहीं दिखता है, वहाँ छोटे-से कमरे में #कैमरा होता है । वहाँ हर 5 मिनट का जो ब्रेक होता है, उसमें #मैसेज छोड़ते थे और #एंकर मुझे बताते थे कि मुझको क्या #बोलना है ।
और कुछ मैं भूल जाता तो ये लोग मेरे #मोबाइल पर मैसेज छोडते थे ।
💥मुझे नींद थोडी कम आती थी तो #राजू चांडक और महेन्द्र चावला के भेजे हुए लोग दवा लेकर आते थे । वह #दवा लेने के बाद जैसा वे बुलवा रहे थे, वैसा मैं बोल रहा था ।
💥भाई-बहनों... टीवी सच नहीं दिखाती । चैनलवाले हम जैसे लोगों को काम में लेते हैं और फेंक देते हैं ।
इस तरह से ये हमारी संस्कृति को नष्ट करने में लगे हैं ।
🔥तो देखा आपने...कितना बड़ा खुलासा किया भोलानंद ने...
जब से ये खुलासा हुआ है तब से ये लोग भोलानंद को डिबेट में नही बुलाते है।
🔥हम #सरकार से माँग करते है क़ि #दीपक चौरसिया की जाँच होनी चाहिए ।
💥आखिर कैसे बना इतने करोड़ों-अरबों का मालिक...???
💥और क्यों ये हिन्दू संस्कृति को बदनाम करना चाहता है...???
💥तथा किसके इशारे पर चल रहा है इण्डिया न्यूज़ चैनल...!!!
🚩जागो भारत🚩
💥देखिये वीडियो👇
💻https://youtu.be/O5Leh3CSBcU
🚩Official Jago hindustani Visit
👇👇👇👇👇
💥Wordpress - https://goo.gl/NAZMBS
💥Blogspot -  http://goo.gl/1L9tH1
🚩🚩जागो हिन्दुस्तानी🚩🚩
Post a Comment