Thursday, February 15, 2018

अश्लीलता फैलाने के आरोप में रूस की डांसर गिरफ्तार, भारत में एेसी कार्यवाही कब ?

February 15, 2018

भारत देश की संस्कृति इतनी महान है कि नारी को नारायणी का दर्जा दिया गया है और बड़ी हो तो माता समान, समान हो तो बहन समान, छोटी हो तो बेटी समान दर्जा देकर अपनी रक्षा करते थे युवक और भारतीय संस्कृति में शादी को इसलिए इतना महत्व दिया गया है कि जो अंदर काम वासना के संस्कार है तो एक ही स्त्री के साथ जीवनभर रहे और उन संस्कारों पर विजय प्राप्त करें और अन्य महिलाओं के प्रति नारायणी का भाव रखें लेकिन  भारत में अंग्रेज आक्रमणकारी आये उन्होंने भारतीय संस्कृति को खत्म करने के लिए पश्चिमी संस्कृति को थोपना शुरू कर दिया जिसके कारण विदेशी कम्पनियों का व्यापार बढ़ा और अधिक बढ़ाने के लिए टीवी, सिनेमा, मीडिया, अखबार, नोवेल आदि द्वारा अश्लीलता फैलाना शुरू किया जिसके कारण विदेशी कम्पनियों की दवाइयां, गर्भनिरोधक साधन, नशीले पदार्थ आदि खूब बिकने लगे।  आज इन अश्लीलता का कोई विरोध करते है तो उसको अभिव्यक्ति की आज़ादी के विरोधी बताते है लेकिन देश के युवक-युवतियों को भयंकर हानि हो रही है वो नही बताते है।
Russia's dancer arrested for spreading obscenity,
 when did the same action in India?

मिस्र के युवाओं को अश्लीलता से बचाने के लिए वहाँ की सरकार बड़ी सतर्क है, उन्होंने जो कदम उठाया वो बड़ा सराहनीय है, जो भारत सरकार को भी उठाना चाहिए ।

आपको बता दें कि रूस की बेली डांसर इकाटेरीना एंड्रीवा को मिस्र में अश्लीलता फैलाने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया है । 31 वर्षीय एंड्रीवा ने मिस्त्र के गीजा के एक नाइटक्लब में डांस किया था, जिसके बाद उनकी गिरफ्तारी कर ली गई । 

रिपोर्ट्स के अनुसार डांस के दौरान बेली डांसर ने जो कपडे पहने थे वह काफी अश्लील थे और बहुत ही ज्यादा उत्तेजित करने वाले थे । इसलिए पुलिस ने बेली डांसर की गिरफ्तारी की थी । नाइटक्लब में एंड्रीवा द्वारा किए गए डांस का एक वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुआ । वीडियो इतना वायरल हो गया कि पुलिस की नजर भी इस पर पड गई, जिसके बाद एंड्रीवा को गिरफ्तार कर लिया गया ।

मेल ऑनलाइन के अनुसार गवहारा उर्फ इकाटेरीना एंड्रीवा का जो वीडियो वायरल हुआ है, उसमें वह बैकलेस ड्रेस पहनी हुई दिख रही हैं । उनकी ड्रेस एक तरफ से कमर तक कटी हुई है । इसके अलावा उनके ऊपर बिना अंडरगार्मेंट पहनें डांस करने का भी आरोप लगा है । पुलिस का कहना है कि इस तरह के कपडे पहनकर अश्लील डांस करने के कारण युवा भटक सकते हैं । युवाओं के लिए यह काफी अनैतिक है ।

मिस्र के अभियोजक हातिम फदल का कहना है, ‘एंड्रीवा ने बिना अंडरगार्मेंट पहनें डांस किया, जो कि बहुत अश्लील था ।’ इसके अलावा यह भी कहा जा रहा है कि एंड्रीवा के पास काम करने के लिए जरूरी लाइसेंस भी नहीं है । इस मामले में अगला कदम क्या होगा इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है, फिलहाल एंड्रीवा के डांस पर रोक लगा दी गई है ।
जब मिस्र सरकार युवाओं को बचाने के लिए अश्लीलता फैलानी वाली डांसर को गिरफ्तार करके उसका डांस बेन कर सकते हैं तो भारत में देरी क्यो?

बॉलीवुड, मीडिया, टीवी, अखबार आदि द्वारा जो अश्लीलता फैलायी जा रही है जिसके कारण देश के युवक-युवतियों को बड़ी हानि हो रही है ।
हमारे देश का भविष्य हमारी युवा पीढ़ी पर निर्भर है किन्तु उचित मार्गदर्शन के अभाव में वह आज गुमराह हो रही है |

पाश्चात्य भोगवादी सभ्यता के दुष्प्रभाव से युवाधन पतन के रास्ते अग्रसर है | विदेशी चैनल, चलचित्र, अश्लील साहित्य आदि प्रचार माध्यमों के द्वारा युवक-युवतियों को गुमराह किया जा रहा है | विभिन्न सामयिकों और समाचार-पत्रों में भी तथाकथित पाश्चात्य मनोविज्ञान से प्रभावित मनोचिकित्सक और ‘सेक्सोलॉजिस्ट’ युवा छात्र-छात्राओं को चरित्र, संयम और नैतिकता से भ्रष्ट करने पर तुले हुए हैं |

पाश्चात्य आचार-व्यवहार के अंधानुकरण से युवानों में जो फैशनपरस्ती, अशुद्ध आहार-विहार के सेवन की प्रवृत्ति कुसंग, अभद्रता, चलचित्र-प्रेम आदि बढ़ रहे हैं उससे दिनोंदिन उनका पतन होता जा रहा है | वे निर्बल और कामी बनते जा रहे हैं | 

पाॅर्न, अश्लीलता ये एेसे शब्द है जिनका भारतीय सभ्यता में कोर्इ स्थान नही है इसे सुनने में हमें शर्म महसूस होती है । परंतु इसी पॉर्न फिल्म देखने में आज भारत चोथवें स्थान पर है । पॉर्न अभिनेत्री सनी लिआेन गूगल में सर्च होनेवाली पहले नंबर में है यानी लोग इसे ज्यादा सर्च करते है । कॅनडा मूल की सनी लिआेन ने भारत में आकर अश्लील फिल्मों में काम किया आैर लाेगों ने उसे पसंद किया । उसके बाद अमेरिकी पोर्न फिल्मों की अभिनेत्री मिया मालकोवा भी पाॅर्न फिल्में कर रही है आैर इन्हें यह अवसर देनेवाले निर्माता है राम गोपाल वर्मा जिन्होने मार्च 2017 में कहा था, ‘दुनिया की हर महिला पुरुष को ऐसी खुशी दे जैसी सनी लियोन देती हैं !’ इस से उनका महिलाआें की आेर देखने का नजरीया साफ हो रहा है ।  यह बात हम इसलिए याद दिला रहे हैं क्योंकि जहां भारत में अश्लिलता को इतना खुलेआम दिखाया जाता है कि उससे आज के युवाआें की हाेनेवाली हानि की आेर नजरअंदाज किया जा रहा है । परंतु हाल ही मिस्र ने जो कदम उठाया है उसे देख लग प्रश्न उठ रहा है कि, क्या देव, ऋषिमुनियों के पावन भूमि में एेसा कदम भारत उठाएगा ? क्या अपनी सांस्कृतिक पहचान बरकरार रखने के लिए देश में अश्लीलता फैलानेवाले लोगोंपर कार्यवार्इ करेगा ?
Post a Comment